mare shahar ki galiya


ये मेरा शहर है,
मुझ को यहीं रहना भी है , लेकिन . . . 
मुझे इस शहर की दो तीन गलियों को भूलना !
की इन गलियों दे वास्ता हैं, 
कुछ मग़मूम सी यादे ,
मगर मुश्किल यही तो है,
की मैं जिसे सिमट भी जाऊ,
वही गलियां मेरे हर रस्ते मं आ निकलती है!
मगर   कैसे भूलना है ,
नहीं कुछ सूझता मुझ को ,
किसी से पूछना होगा , 
ये अंदेशा भी है लेकिन ,
के मैं जिस से भी पूछूंगा ,
वो मुझ को न दे पायेगा,
मुनासिब मशवरा कोई,
के इन गलिओं के जादू  का ,
किसी को इल्म ही कब हे 

Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara