Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2015

Mere Sath Na chal

तू मेरे साथ ना चल ऐ मेरी रूह ऐ ग़ज़ल , लोग बदनाम न करदे तू इरादो को बदल !
मैंने माना की बहुत प्यार किया है तूने , साथ ही जीने का इकरार किया है तूने ! मानले बात मेरी देख तू इस राह न चल!!
तू मेरे साथ ना चल ऐ मेरी रूह ऐ ग़ज़ल , लोग बदनाम न करदे तू इरादो को बदल !
साथ देखेगे तो फिर लोग कहेंगे क्या क्या , सोच ले सोच ले इल्ज़ाम घेरेंगे क्या क्या ! ऐ मेरी पर्दानशीं  देख, ना परदे से निकल !!
तू मेरे साथ ना चल ऐ मेरी रूह ऐ ग़ज़ल , लोग बदनाम न करदे तू इरादो को बदल !
अपनी उल्फत पे कभी आंच न आ जाये कहीं , तेरी रुसवाई हो  ये बात गवारा ही नहीं ! देख नादाँ न बन होश में आ यु न मचल !!
तू मेरे साथ ना चल ऐ मेरी रूह ऐ ग़ज़ल , लोग बदनाम न करदे तू इरादो को बदल !

Mera Mahi Tu Hai !!

"रस्क" ये जमाना है काली रातों से,  मुझे जुदा नहीं होना तेरी बाँहों से ! जान को छोड़ कर  कह,  तेरे लिए  कुछ भी कर सकता हूँ !! मैं  जान नहीं दे सकता  मेरी जान तू है !! जिन्दा जो करदे इस रूह से तू मुझे , मैं रो लूंगा हँस हँस के ! तेरी जिन्दगी में शामिल है ये मेरी , तू ताने दे कस  कस के ! मुझे रोने दे दुनिया में जितना तू चाहे , में रोना नहीं "रस्क" मेरा माही तू है !! 

Ye Jaan Teri Hai !!

दिल चीज क्या है "रस्क" , ये जान भी तेरी है ! तेरी बाँहों में जान निकले ये ख़्वाहिश मेरी है !! लाख दुआये कर करके खुद से माँगा है , जी भर के देख लु इतनी उम्र नहीं मेरी है ! ये हुस्न जवानी का क्या मान करू "रस्क" सबका मालिक है तू मेरी क्या हस्ती है ! दिल चीज क्या है "रस्क" , ये जान भी तेरी है ! तेरी बाँहों में जान निकले ये ख़्वाहिश मेरी है !!

Lab Chu Gaya Tha Kabhi !!!

मेरा अपना तजुर्बा है तुम्हे बतला रहा हूँ ! कोई लब छू गया था तब, अब तक गा रहा हूँ !! फ़िराक ऐ यार में कैसे जिया जाए बिना तड़फे ! बिछड़ के तुमसे अब कैसे जिया जाए बिना तड़फे !! जो में खुद ही नहीं समझा वो ही समझा रहा हूँ तुम्हे !!! किस पत्थर में मूरत है कोई पत्थर की मरता है!  लो हमने देख ली दुनिया , जो इतनी खूबसूरत है !! जमाना अपनी समझे पर मुझे अपनी खबर ये है !! "रस्क " तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है !!

Tera Hi Naam

मुझे अब भी मुहब्बत है   .......  तेरे क़दमों की आह्ट से , तेरी हर मुस्कराहट से , तेरी बातों की खुश्बू से , तेरी आँखों के  जादू से , तेरी दिलकश वादो  से ,  तेरी कातिल अदाओं से , मुझे अब भी मुहब्बत है   .......  तेरी राहों में रुकने से , तेरी पलकों के झुकने से , सेहर ओ शाम होठों पे , "रस्क" तेरा  ही नाम लिखने से , तेरे तैश ओ अदावत से , तेरी बेजा शिकायत से , यहाँ तक के मेरे ऎ दोस्त , तेरी हर एक आदत से , मुझे अब भी मुहब्बत है  .......   मुझे अब भी मुहब्बत है ....... 

Khusi Ka muqddar

जो तूने बक्शा है वो गम कहाँ नहीं होता, ये शोला ऐसा है जिसका धुँआ नहीं होता !! तलब  है तुझको ख़ुशी की जन्म से ऐ "रस्क", बता क्यू तेरा मुकद्दर जवां क्यू नहीं होता !!

Rask Ye Ashk

आओ तो कभी देखो तो जरा,  हम कैसे जिए तेरी खातिर ! दिन रात जलाये बैठे है,  आँखों के दिये तेरी खातिर !!
एक नाता तुझ से जोड़ लिया , सब अपनों से मुँह मोड़ लिया ! हम तन्हा  होकर बैठ गए , सब छोड़ दिया तेरी खातिर !!
कुछ आहें थी कुछ शिकवे थे , होंठो पे उन्हें आने ना दिया ! जो आँख के रस्ते भी आये , सब अश्क पिए तेरी खातिर !!
बदनाम ना तू  हो जाये कहीं , इन अपनी जफ़ाओ के बदले ! इन तेरे गमो पे खुशियो के , सो परदे किये तेरी खातिर !!
मेरे खून ये जिगर का दाग़ कही , दामन  पे तेरे ना  लग जाये ! एक अहदे वफ़ा के धागे से , सब जख्म सिये तेरी खातिर !!
हम सब कुछ अपना  हर गए , बर्बाद हुए पर तू न मिला !! "रस्क"  बेकार जहाँ में जीने के  इल्जाम लिए तेरी खातिर !!

Tohfa

चलो में बताओ  कैसे दोस्त  हो तुम ? मेरे लिए ! मेरी दुनिया हो  तुम.. छू के जो गुज़री  वो हवा हो तुम में ने जो मांगी  वो दुआ हो तुम  करे मुझे  जो रोशन वो दिया हो तुम  रम हो तो  ये  दुनिया हे खूबसूरत मेरी  कैसे कहूँ  के  मेरे कैसे दोस्त  हो तुम "रस्क" कर सको यक़ीन  तो  बताओं तुम्हें ? जिंदगी  का खास तोहफा  हो तुम !!

Rota Hua Chor Gaye

कुछ वक़्त पहले मुझे भी जिन्दगी ने आज़माया था ! किसी के साथ मैंने भी हँसता हुआ पल बिताया था !! रोता हुआ छोड़ गए तो क्या हुआ ! हसना भी तो उसी ने सिखाया था !!

Mohbbat meharban nahi hoti !!

                     बहते अश्कों की जुबान नहीं होती,                     लफ़्ज़ों में मोहब्बत बयां नहीं होती !                          मिले जो प्यार तो कदर करना ,                 किस्मत हर किसी पर मेहरबान  नहीं होती !!

Tu Jo Nahi Hai To ......

तू जो नहीं है तो कुछ भी नहीं है ! ये माना महफ़िल जवां जवां है  !! निगाहों में तु है ये दिल झूमता है ! न जाने मुहब्बत की राहो में क्या है !! जो तू हमसफ़र है तो कुछ गम नहीं है ! ये मन महफ़िल हसीं है जवां है !! "रस्क" वो आये न आये जमी है निगाहे ! सितारों ने देखी  है झुक झुक के रहे !! ये दिल बदगुमाँ है नज़र को यकीं है !!

Adawat ....

न कोई शिकायत है न कोई अदावत है ! दिल तोड़ने वाले  हमें क्यू तुझसे मोह्हबत है !!
दिल दिया तो दिया हमने  तुझे,  उम्र भर के लिए ! चीज वापिस मांगने की हमें कहाँ आदत है !! दिल तोड़ने वाले  हमें क्यू तुझसे मोह्हबत है !!!
समझेगा निगाहो को कैसे इस हुस्न की कोई ! देखो तो इनायत है बदले तो कयामत है !!  दिल तोड़ने वाले  हमें क्यू तुझसे मोह्हबत है !!!
कौन क्या है "रस्क" ये खबर ज़माने की हमें भी है ! पर चुप है इस कदर,  ये अपनी शराफत !! दिल तोड़ने वाले  हमें क्यू तुझसे मोह्हबत है !!!

Ilzam .....

"सूखे पत्ते की तरह गिरा रहा है कोई, बेवजाह हमें सता रहा है कोई, "रस्क" क्या-क्या न लुटाया हमने दोस्ती में, फिर भी इलज़ाम पे इलज़ाम लगा कोई"

App Muskuraoge

कुछ गम जो आपके सफों पे लिखे है  संवर जायेंगे ! वक़्त खुद ब खुद काट जाएंगे जब आप मुस्कुरायगे !!
लबो पे अपने तल्ख़िया आने मत दीजिये ! हंस के बाते जो करेंगे गैर अपने  बन जायेंगे !! कुछ गम जो आपके सफों पे लिखे है  संवर जायेंगे ! वक़्त खुद ब खुद काट जाएंगे जब आप मुस्कुरायगे !!
 शोखी है शाख पर सोच कोई दरख़्त नहीं काटिए ! सावन न लौट के आएगा परदेश से घर आएंगे !! कुछ गम जो आपके सफों पे लिखे है  संवर जायेंगे ! वक़्त खुद ब खुद काट जाएंगे जब आप मुस्कुरायगे !!
नासूर भी बन सकते है अब और इन्हे न छेडिये ! "रस्क" छोड़गे इनके हाल भी तो ये जख्म भी भर जायेंगे !!