Khusi Ka muqddar


जो तूने बक्शा है वो गम कहाँ नहीं होता,
ये शोला ऐसा है जिसका धुँआ नहीं होता !!
तलब  है तुझको ख़ुशी की जन्म से ऐ "रस्क",
बता क्यू तेरा मुकद्दर जवां क्यू नहीं होता !!


Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara