Skip to main content

Rask Ye Ashk


आओ तो कभी देखो तो जरा, 
हम कैसे जिए तेरी खातिर !
दिन रात जलाये बैठे है, 
आँखों के दिये तेरी खातिर !!

एक नाता तुझ से जोड़ लिया ,
सब अपनों से मुँह मोड़ लिया !
हम तन्हा  होकर बैठ गए ,
सब छोड़ दिया तेरी खातिर !!

कुछ आहें थी कुछ शिकवे थे ,
होंठो पे उन्हें आने ना दिया !
जो आँख के रस्ते भी आये ,
सब अश्क पिए तेरी खातिर !!

बदनाम ना तू  हो जाये कहीं ,
इन अपनी जफ़ाओ के बदले !
इन तेरे गमो पे खुशियो के ,
सो परदे किये तेरी खातिर !!

मेरे खून ये जिगर का दाग़ कही ,
दामन  पे तेरे ना  लग जाये !
एक अहदे वफ़ा के धागे से ,
सब जख्म सिये तेरी खातिर !!

हम सब कुछ अपना  हर गए ,
बर्बाद हुए पर तू न मिला !!
"रस्क"  बेकार जहाँ में जीने के 
इल्जाम लिए तेरी खातिर !!


Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Bewafa

"रस्क" .... 
वफादार..और तुम...? ख्याल अच्छा है...
बेवफा और हम...? इल्जाम भी अच्छा है... 

बस मुस्कुरा के देख..

लफ़्जों के इत्तेफाक में...  युँ बदलाव करके देख...  तु देखकर ना मुस्कुरा... बस मुस्कुरा के देख...

jajbaat

कभी हम टूटे तो कभी ख्वाब टूटे, न जाने कितने टुकड़े में अरमान टूटे !! हर टुकड़ा  आइना है ज़िन्दगी का "रस्क" , हर आईने के साथ लाखों जज़्बात टूटे !!