Sham nahi hoti



"रस्क" तुम तो कहते थे , अब हर शाम तुम्हारे साथ गुजरेगी !
क्या हुआ तुम बदल गए या तुम्हारे शहर में अब शाम नहीं होती !!

Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara