ख़लिश





ये कैसी ख़लिश है तेरे इंतज़ार की,

रहा भी नहीं जाता, सहा भी नहीं जाता !

क्या कहे के कुछ कहा नहीं जाता ,
दर्द मीठा है पर सहा नहीं जाता !!

मोहब्बत हो गई है इस कदर आपसे ,
"रस्क" बिना याद किये रहा नहीं जाता !!

Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara