Log khuda ho jaye



इस से पहले की बेवफा हो जाये, 
क्यों ना ये दोस्त हम जुदा हो जाये ?

तू भी हीरे से बन गया पत्थर ,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाये!

हम भी मजबूरी का अपनी कुछ बयान करे,
फिर कही और उलझ जाये !

अब के अगर तू मिले तो हम तुझसे,
ऐसे लिपटे तेरी मजार हो जाये !

बंदगी हम ने छोड़ दी है "रस्क"
क्या करे जब लोग खुदा हो जाये !!

Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara