तु बता जिंदगी की वो है, के नहीं !!



वो बात बात पर देता है परिंदो की मिसाल ,
साफ़ साफ नहीं कहता मेरा शहर ही छोड़ दो,
तु बता "रस्क" की, वो है के  नहीं!

अब उसे रोज़ न सोचू तो बदन टूटता है ,
उम्र गुज़री है उस की याद का नशा करते करते ,
तु बता "रस्क" की, वो है के  नहीं!

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में ही छोड़ आये थे ,
उसे गले से लगाना तो एक बहाना था ,
तु बता "रस्क" की, वो है के  नहीं!

Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara