Sunday, January 29, 2017

Dost



मेरी रुह निकलने वाली होगी
मेरी सांस बिखरने वाली होगी
फ़िर दामन जिंदगी का छूटेगा
धागा सांस का भी छूटेगा
फ़िर वापस हम ना आयेंगे
फ़िर हमसे कोइ ना रुठेगा
फ़िर आंखोंमे नुर ना होगा
फ़िर दिल गम से चुर ना होगा
उस पल तुम हमको थामोगे
हम से दोस्त अपना फ़िर मांगोगे
फ़िर हम ना कुछ भी बोलेंगे
और आंखें भी ना खोलेंगे
उस पल तुम रो दोगे
और दोस्त अपना खो दोगे, दोस्त अपना खो दोगे

Saturday, January 21, 2017

true love

उतर जाते है दिल में कुछ लोग इस कदर ....... 
उनको निकालो तो जान निकल जाती है !!


Saturday, January 14, 2017

Rask



जिसे माँगा दुआओ में जिसे चाहा ख्यालों  में ,
मिला वो ख्वाब  सच बनकर हमें दिन के उजालो में !
नज़र की खुशनसीबी पर ये बाहें "रस्क" करती है ,
करीब आओ करीब आओ करीब आओ !!
सिमट आये है पहली ही नज़र  में फासले दिल के,
कसम खाते है हम तुम से जुदा न होंगे अब मिल के !!
तुम्हारे साथ अब ये दुनिया हमें जन्नत सी लगती है ... 



तेरी आँखें तो मेरी हैं, मैं इन को रुलाऊँ कैसे.

टूट जाये न भरम होंठ हिलाऊँ कैसे.. हाल जैसा भी है लोगों को बताऊँ कैसे.. खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है .. मैं तेरे ग़...