Rask



जिसे माँगा दुआओ में जिसे चाहा ख्यालों  में ,
मिला वो ख्वाब  सच बनकर हमें दिन के उजालो में !
नज़र की खुशनसीबी पर ये बाहें "रस्क" करती है ,
करीब आओ करीब आओ करीब आओ !!
सिमट आये है पहली ही नज़र  में फासले दिल के,
कसम खाते है हम तुम से जुदा न होंगे अब मिल के !!
तुम्हारे साथ अब ये दुनिया हमें जन्नत सी लगती है ... 



Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara