Skip to main content

Posts

Showing posts from 2016

kal raat

कल रात उनसे मेरी मुलाकात हो गयी , ख्वाबो खयालो में जो बात न थी वो हो गई ! टकराई उनसे मेरी शरारत भरी नज़र , ऐसा लगा धूप में बरसात हो गई !!

रोना

 कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ "रस्क" ,
                                            सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया..!!


हसरते

हसरते आज भी  खत लिखती है मुझे ,
                                                                "रस्क"  मैं अब पुराने पते पर नहीं रहता !!

मेरी आँखों मे

लफ्ज़ो मे क्या तारीफ करू आपकी, आप लफ्ज़ो मे कैसे समा पाओगे, जब लोग हमारे प्यार के बारे मे पूछेंगे, मेरी आँखों मे ए "रस्क"  सिर्फ तुम नज़र आओगे…

जाने क्यों प्यार उसी से होता है…

जाने क्यों इस जहाँ मे ऎसा होता है, खुशी जिसे मिले वही रोता है, उम्र भर साथ निभा ना सके जो, "रस्क" जाने क्यों प्यार उसी से होता है…

मुलाकाते

बड़ी अजीब मुलाकाते थी हमारी, "रस्क" वो मतलब से मिला करते थे, और हमे मिलने से मतलब था

बस मुस्कुरा के देख..

लफ़्जों के इत्तेफाक में...  युँ बदलाव करके देख...  तु देखकर ना मुस्कुरा... बस मुस्कुरा के देख...

तु बता जिंदगी की वो है, के नहीं !!

वो बात बात पर देता है परिंदो की मिसाल , साफ़ साफ नहीं कहता मेरा शहर ही छोड़ दो, तु बता "रस्क" की, वो है के  नहीं!
अब उसे रोज़ न सोचू तो बदन टूटता है , उम्र गुज़री है उस की याद का नशा करते करते , तु बता "रस्क" की, वो है के  नहीं!
हम अपनी रूह तेरे जिस्म में ही छोड़ आये थे , उसे गले से लगाना तो एक बहाना था , तु बता "रस्क" की, वो है के  नहीं!

Feelings

चले जो दो कदम साथ, तो उनके साथ से प्यार हो जाये !
थामे जो प्यार से मेरा हाथ , तो आपने ही हाथ से प्यार हो जाये !
जिस रात आये ख़्वाबों में वो , उस सुहानी रात से प्यार हो जाये !
जिस बात में आये ज़िक्र उनका, तो उसी बात से प्यार हो जाये !
जब पुकारे प्यार से मेरा नाम लेकर, "रस्क" तो अपने ही नाम से प्यार हो जाये !
होता है अगर इतना खुबसुरत यह प्यार अगर  तो ऐ  खुदा उन्हें भी मेरे प्यार से प्यार हो जाये !!

Log khuda ho jaye

इस से पहले की बेवफा हो जाये, 
क्यों ना ये दोस्त हम जुदा हो जाये ?

तू भी हीरे से बन गया पत्थर ,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाये!

हम भी मजबूरी का अपनी कुछ बयान करे,
फिर कही और उलझ जाये !

अब के अगर तू मिले तो हम तुझसे,
ऐसे लिपटे तेरी मजार हो जाये !

बंदगी हम ने छोड़ दी है "रस्क"
क्या करे जब लोग खुदा हो जाये !!

Awara Lafaz

आवारा  लफ़्ज़ों को पनाह देकर , उन लफ़्ज़ों की शायरी बना देंगे,
खूबसूरत ख्याल को क़ैद कर, उनके गीत बना देंगे ,
शायरी को ग़ज़ल बना कर फरमाएंगे, और उनको मोहब्बत में बदल देंगे ,
"रस्क" जन्नत के खवाब भी आप भूल जायेंगे, जब इश्क़ को खुद एक इब्बादत बना देंगे !!

Sorry

कुछ हँस के  बोल दिया करो, कुछ हँस के  टाल दिया करो, यूँ तो बहुत  परेशानियां है  तुमको भी  मुझको भी, मगर कुछ फैंसले  वक्त पे डाल दिया करो, न जाने कल कोई  हंसाने वाला मिले न मिले.. इसलिये आज ही हसरत निकाल लिया करो !! हमेशा समझौता  करना सीखिए.. क्योंकि थोड़ा सा झुक जाना   किसी रिश्ते को हमेशा के लिए  तोड़ देने से बहुत बेहतर है ।।। किसी के साथ हँसते-हँसते  उतने ही हक से  रूठना भी आना चाहिए ! अपनो की आँख का  पानी धीरे से पोंछना आना चाहिए !   "रस्क " रिश्तेदारी और दोस्ती में कैसा मान अपमान ? बस अपनों के  दिल मे रहना आना चाहिए...!

ख़लिश

ये कैसी ख़लिश है तेरे इंतज़ार की,
रहा भी नहीं जाता, सहा भी नहीं जाता !
क्या कहे के कुछ कहा नहीं जाता , दर्द मीठा है पर सहा नहीं जाता !!
मोहब्बत हो गई है इस कदर आपसे , "रस्क" बिना याद किये रहा नहीं जाता !!

Tanhai

जमाने से नही तो तनहाई से डरता हुँ,

प्यार से नही तो रुसवाई से डरता हुँ,

मिलने की उमंग बहुत होती है,

लेकिन मिलने के बाद तेरी जुदाई से डरता हुँ..

Teri ada samjhu

तेरे होने पर भी खुद को तनहा समझूँ , में बेवफा हूँ  के तुजे बेवफा समझूँ 
तेरी बेरुखी से वक़्त तो गुज़र गया हें मेरा  यह खुद्दारी हें तेरी या तेरी अदा समझूँ. 
तेरे बाद क्या हाल हुआ हें मेरा  ये तेरी इनायत हें या अदासमझूँ. 
"रस्क "ज़ख़्म देती हो और मरहम भी लगाती हो  यह तेरी आदत हें या तेरी अदा समझूँ

Tutata Sitara

हमारी किस्मत तो आसमान पे चमकते सितारे की तरह है, लोग अपनी तमन्ना के लिए हमारे टूटने का इंतज़ार करते है !!

Aansu

दिल में हर राज़ दबा के रखते है , होठों पे मुस्कान सज्जा के रखते हैं  ये दुनिया सिर्फ ख़ुशी में साथ देती है  "रस्क" इसलिए हम अपने आंसू छुपा के रखते है 

wahi tak

सफर वही  तक है, जहाँ तक तुम हो !
नज़र वही तक है , जहाँ तक तुम हो !
 हज़ारो फूल दिखे है, इस गुलशन में , मगर 
"रस्क" खुश्बू वही तक है, जहा तक तुम हो !!

Teri Kami

जब दिल दर्द के जंगल, में भटकता हैं ! तब तेरी कमी बहुत  महसूस होती है ! जब दर्द नस नस से  होकर गुजरता है ! तब तेरी यादो की , छायाओं में अक्सर  ज़िन्दगी सोती है ! जब तुझे पाने को  बहुत बेचैन होता  है, ये दिल  तब मत पूछ "रस्क" ये आँख  किस कदर रोती  है !!

jajbaat

कभी हम टूटे तो कभी ख्वाब टूटे, न जाने कितने टुकड़े में अरमान टूटे !! हर टुकड़ा  आइना है ज़िन्दगी का "रस्क" , हर आईने के साथ लाखों जज़्बात टूटे !!

Bewafa

"रस्क" .... 
वफादार..और तुम...? ख्याल अच्छा है...
बेवफा और हम...? इल्जाम भी अच्छा है... 

Sham nahi hoti

"रस्क" तुम तो कहते थे , अब हर शाम तुम्हारे साथ गुजरेगी ! क्या हुआ तुम बदल गए या तुम्हारे शहर में अब शाम नहीं होती !!

Barish.....

Bas... aur kya mangu !!

Magar Kaise

Bikhar jane de !!

yaden

Sabr

आगे सफर था और पीछे हमसफर था रूकते तो सफर छूट जाता और चलते तो हमसफर छूट जाता..
मंजिल की भी हसरत थी और उनसे भी मोहब्बत थी..
ए दिल तू ही बता,उस वक्त मैं कहाँ जाता...


मुद्दत का सफर भी था और बरसो का हमसफर भी था
रूकते तो बिछड जाते और चलते तो बिखर जाते....
यूँ समँझ लो, "रस्क"

प्यास लगी थी गजब की मगर पानी मे जहर था...
पीते तो मर जाते और ना पीते तो भी मर जाते.

बस यही दो मसले, जिंदगीभर ना हल हुए!!!
ना नींद पूरी हुई, ना ख्वाब मुकम्मल हुए!!!

वक़्त ने कहा.....काश थोड़ा और सब्र होता!!!
सब्र ने कहा....काश थोड़ा और वक़्त होता!!!

Tumhara koi nahi hoga jab

तुम्हारी आँखों कोई होगा , तुम्हारी बातों में कोई होगा , तुम्हारे दिल में कोई होगा , तुम्हारे दर्द में कोई होगा , "रस्क" पर हम होंगे , जब तुम्हारा कोई ना होगा !!

pane ki chahat

जरा पाने की चाहत में बहुत कुछ छूट जाता है , न जाने सब्र का धागा कहाँ टूट जाता है ! "रस्क" किसे हमराह कहते हो यहाँ तो अपना साया भी, कही पर साथ रहता है कही पर छूट जाता है !!

tammnao ki tasveer

मुझे तो मोम जैसा दिल मेरे दाता ने बक्शा , आये दिन के सदमो से इसे पत्थर बनता हूँ! कभी फूलो के हार बनता था, नोबत यह आ गयी है की तेग और खंजेर बनता हूँ! मैंने छोड़ा नहीं कभी समझोतों के रास्तो को, कड़ी करते है वो दीवार और में दर बनता हूँ! मुझे रहना है गम की धुप में, मेरी खता यह है की खुले है जिनके सर! उनके लिए छत्ते  बनता हूँ! हवा का एक झोका कहानी खत्म कर देगा, अपनी तमन्नाओ की तस्वीर में पानी पर बनता हूँ...

Wo Shakhs

भूल जाना उसे जो तुम्हे भुला दे ,
मत देखना उसे जो तुम्हे रुला दे !
पर कभी ना होना दूर उस शख़्स से "रस्क" ,
जो अपनी आँखे भिगो कर भी तुम्हे हँसा दे !!

Khawab

छु लेंगे हम तुझे तेरे ख्वाबो  में, पर रूबरू तुझसे कभी ना हो पाएंगे!
तेरी ही चाहत है इस दिल में "रस्क"  अब यह बात तुझे कैसे समझा पाएंगे!
यु ही उतर आएंगे हम तेरे ही खयालो में,  और तेरी रूह बस उतर जायेंगे !
है यही प्यार की इतनी  दास्तां अब , तेरी दुनिया हम सिर्फ ख़्वाबों बसा जायेंगे !
जो मिलना चाहो मुझसे तो देख लेना, अपने दिल में झांक कर. . . . . . .  हम ही हम तुझे वहां नज़र आएंगे !!

Tera aks

कॉफी के कप से उठते धुंए में ,
तेरा अक्स नज़र आता है
"रस्क" तेरे ख्यालो  में खो कर अक्सर,
मेरी कॉफीे  ठंडी हो जाती है !! 

GHAZAL

लफ्ज़ लफ्ज़ लिखता रो रहा हूँ  ग़ज़ल मैं आंसू पिरो रहा हूँ  कलम में खून ए जिगर भरा है  ग़ज़ल भी खून से भिगो रहा हूँ  मिले है मुझको जख्म क्यू कर  गमो के आंधी में जो रहा हूँ  बस अब ना छेड़ो के मगन हूँ  ग़ज़ल में जख्मो को खो रहा हूँ  सकू पाने के वास्ते कुछ  ग़ज़ल में खुद को डुबो रहा हूँ  न कुछ भी "रस्क" जुबानी पूछो  ग़ज़ल में हर दुख समो रहा हूँ 

Maine kaha usse

मैंने उससे एक इशारा किया, उसने सलाम लिख के भेजा ! मैंने पूछा तुम्हारा नाम क्या है ? उसेन चाँद लिख के भेजा! मैंने पूछा तुम्हे क्या चाहिए ? उसने सारा आसमान लिख के भेजा ! मैंने पूछा कब मिलोगे ? उसने कयामत की शाम लिख के भेजा ! मैंने पूछा किस से डरते हो ? उसने मोह्हब्बत का अंजाम लिख भेजा ! मैंने पूछा तुम्हे नफरत किस से है ? उसने मेरा ही  लिख के भेजा 

Dil udas rahta hai

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास रहता है,मैं क्या करू बस एक ही शख्स याद रहता है !कभी ख्याल ही नहीं आता की मैं अकेला हूँ ,अब तो मेरा दोस्त मेरे साथ रहता है !तुम से बात करते हुए हालत अजीब होती है ,मुझे तो कुछ भी न होश ओ हवास रहता है !कहीं तुम बदल न जाओ कहीं तुम मुझे भूल न जाओ, न जाने क्यों मुझे अब ये खौफ हर वक़्त रहता है !ना जाने मेरे दिल को क्या हो गया है,क्यों अब ये हर वक़्त उदास रहता है !"रस्क" तुम ही बता दो मैं क्या करू …… 

Acha nahi lagta

जो मिल कर दूर जाते हो, मुझे अच्छा नहीं लगता , सितम ये मुझ पे ढाते हो, मुझे अच्छा नहीं लगता !! हजारो इम्तहानों से, गुजर कर, मैं यहाँ पंहुचा ,  तुम अब भी आजमाते हो, मुझे अच्छा नहीं लगता !!  हमारे साथ कल तक तुम, चमन ,में फूल बोते थे , तुम्ही कांटे बिछाते हो, मुझे अच्छा नहीं लगता !! मैं वाक़िफ़ हूँ, तुम्हारे दोस्तों के, असली चेहरों से,  अगर चाहत तुम निभाते हो,मुझे अच्छा नहीं लगता !! निशाना बन रहा हूँ में, जहाँ के तंज़ ओ तानों के , और तुम दमन छुड़ाते  हो , मुझे अच्छा नहीं लगता !! "रस्क" बुरा लगता है, अपनी बात जब, समझा नहीं पता , समझ जब तुम न पते हो , मुझे अच्छा नहीं लगता !!

Sache riste

मकान चाहे कच्चे थे
लेकिन रिश्ते सारे सच्चे थे...चारपाई पर बैठते थे
पास पास रहते थे...सोफे और डबल बेड आ गए
दूरियां हमारी बढा गए....छतों पर अब न सोते हैं
बात बतंगड अब न होते हैं..आंगन में वृक्ष थे
सांझे सुख दुख थे...दरवाजा खुला रहता था
राही भी आ बैठता था...कौवे भी कांवते थे
मेहमान आते जाते थे...इक साइकिल ही पास था
फिर भी मेल जोल था...रिश्ते निभाते थे
रूठते मनाते थे...पैसा चाहे कम था
माथे पे ना गम था...मकान चाहे कच्चे थे
रिश्ते सारे सच्चे थे...अब शायद कुछ पा लिया है
पर लगता है कि बहुत कुछ गंवा दियाजीवन की भाग-दौड़ में -
क्यूँ वक़्त के साथ रंगत खो जाती है?
हँसती-खेलती ज़िन्दगी भी आम हो जाती है।एक सवेरा था जब हँस कर उठते थे हम
और
आज कई बार
बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है!!कितने दूर निकल गए,
रिश्तो को निभाते निभातेखुद को खो दिया हमने,
अपनों को पाते पाते

People

Don’t you ever regret knowing
Someone in your life.
Good people will give you
HAPPINESS
Bad people will give you
EXPERIENCE
While the worst people
will give you a
LESSON
And the best people
will always give you
MEMORIES.

Rose day

बस एक छोटी सी हाँ कर दो;
हमारे नाम इस तरह सारा जहां कर दो;
वो मोहब्बतें जो तुम्हारे दिल में हैं;
उनको ज़ुबान पर लाओ और बयान कर दो!