Tmhari Muhbbat


तुम मोहब्बत  भी , मौसम की , तरह निभाते हो,
कभी बरसते हो , कभी  बूँद को , तरसाते हो !

पल मैं कहते हो, ज़माने मैं, फ़क़त तेरे है, 
पल मैं,  इज़हार ऐ मुहब्बत से, मुकर जाते हो !!

भरी महफ़िल में, दुश्मनो की तरह, मिलते हो,
और दुआओं में, "रस्क" मेरा नाम लिए जाते हो !

Comments

Popular posts from this blog

Acha nahi lagta

Tutata Sitara